बुधवार, 30 अगस्त 2017

बनें हर कोई दर्पण

दर्पण सुनता देखता, जग का केवल सत्य ।
आँख-कान से वह रहित, परखे है अमरत्व ।।
परखे है अमरत्व, सत्य को जो है माने ।
सत्य रूप भगवान, सत्य को ही जो जाने ।।
सुनलो कहे ‘रमेश‘, करें सच को सच अर्पण ।
आँख-कान मन खोल, बनें हर कोई दर्पण ।।

रविवार, 27 अगस्त 2017

नामी कामी संत

गुंडा को भाई कहे, पाखण्ड़ी को संत ।
करे पंथ के नाम पर, मानवता का अंत ।।
मानवता का अंत, करे होकर उन्मादी ।
नामी कामी संत, हुये भाई सा बादी ।।
अंधभक्त जब साथ, रहे होकर के मुंडा ।
पाखण्ड़ी वह संत, बने ना कैसे गुंडा ।।

शनिवार, 19 अगस्त 2017

राजनीति का खेल

बात-बात में जो करे, संविधान की बात ।
संविधान के मान को, देते क्यों हैं मात ।।

संविधान की सभा में, जिसने किया स्वीकार ।
राष्ट्रगीत का आज फिर, करते क्यों प्रतिकार ।।

हिन्द पाक दो खण्ड़ में, बांट चुके हैं देश ।
मुद्दा जीवित फिर वही, बचा रखे क्यो शेष ।।

छद्म धर्म निरपेक्ष है, राष्ट्रवाद भी छद्म ।
छद्म छद्म के द्वन्द से, उपजे पीड़ा पद्म ।।

हिन्दू मुस्लिम गांव में, रखते हैं हम मेल ।
लड़ा रहे वे खेलकर, राजनीति का खेल ।।

सोमवार, 14 अगस्त 2017

देश धर्म

धारण करने योग्य जो, कहलाता है धर्म ।
सबसे पहले देश है, समझें इसका मर्म ।।

जिसको अपने देश पर, होता ना अभिमान ।
कैसे उसको हम कहें, एक सजग इंसान ।।

हांड मांस के देह को, केवल मिट्टी जान ।
जन्म भूमि के धूल को, जीवन अपना मान ।।

देश है सबसे पहले

पहले मेरा धर्म है, पाछे मेरा देश ।
कहते ऐसे लोग जो, रोप रहे विद्वेश ।
रोप रहे विद्वेश, देश को करने खण्डित ।
राजनीति के नाम, किये अपने को मण्डित ।।
सुनलो कहे ‘रमेश‘, चलो तुम अहले गहले ।
राजनीति को छोड़, देश है सबसे पहले ।।

बुधवार, 9 अगस्त 2017

भौतिक युग

भौतिक युग विस्तार में, नातों का दुश्काल ।
माँ सुत के पथ जोहती, हुई आज कंकाल ।।
हुई आज कंकाल, हमारी संस्कृति प्यारी ।
अर्थ तंत्र का अर्थ, हुये जब सब पर भारी ।।
सुन लो कहे ‘रमेश‘, सोच यह केवल पौतिक ।
तोड़ रहे परिवार,  फाँस बनकर युग भौतिक ।।
(पौतिक-सड़ांध युक्त घाव)

शुक्रवार, 4 अगस्त 2017

बैद्यनाथ की कावरिया यात्रा

बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।
पाँव-पाँव चलता चल भक्ता, बन जायेगा तेरा कल ।।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

कावर साजो अथवा पिठ्ठुल, साजो पहले निज मन ।
बोल बम्म के नारोंं से, ऊर्जा भरलो अपने तन ।
बैद्यनाथ कामना लिंग है, देंगे तुझको वांक्षित बल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

उत्तर वाहिनी गंज गंगा, लेकर इसके पावन जल ।
अजगैबीनाथ पाँव धर कर, चल रे भक्ता चलता चल ।
चाफा मनिहारी गोगाचक, कुमारसार पथ बढ़ता चल ।।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

जिलेबिया नाथ टगेश्वर चल, बढ़ता चल चल सुइया पथ
शिवलोक भूल भुलईया, दर्शनिया तक तन को मथ ।
फिर शिवगंगा बाबानगरी, देगें तुझे शांति के पल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

चाहे पड़े पाँव में छाले, चाहे चूर-चूर हो तन ।
बोल बम्म कहता चल भक्ता, बाबा काे धरकर मन ।
बैद्यनाथ की महिमा प्यारी, भर देंगे तुझमें बल।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

नन्हे नन्हे बालक चलते, चलते लाखों नारी नर ।
झूम झूम कर बोल रहे सब, हर बोल बम्म बढ़-चढ़ कर ।
बीस कोस की भुइया पैदल, चल रहे सभी हैं प्रतिपल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

शुक्रवार, 28 जुलाई 2017

चल चल रे कावड़िया चल चल

कावड़िया चल देवघर, बोल बम्म शिव बम्म ।
बैजनाथ के श्री चरण, भक्त लगा के दम्म ।।

---------------------—

चल चल रे कावड़िया चल चल, बैजनाथ के द्वारे ।
शिव का आया आज बुलावा, जागे भाग हमारे ।।

कांधे कावर गंगा जल धर, मन में श्रद्धा निर्मल ।
नंगे पांव चले चल प्यारे, जैसे नदियां कल-कल ।।

हर हर महादेव हर हर, हर हर शिव ओंकारा ।
बोल बम्म बोल बम्म हर हर, गूंज रहा है नारा ।।

पुनित मास सावन बाबा के, लगा हुआ है मेला ।
बोल बम्म जयकारों से मन, नाच रहा अलबेला ।।

अवघर दानी शम्भू सदाशिव, सफल मनोरथ करते ।
हाथ पसारे जो नर मांगे, बाबा झोली भरते ।




बुधवार, 19 जुलाई 2017

ईश्वर अल्ला नाम एक है

ये अल्ला के बंदे सुन लो, सुन लो ईश्वर के संतान ।
ईश्वर अल्ला नाम एक है, सुन लो अपने खोले कान ।।

निराकार साकार रूप तो, कण-कण का होता पहिचान ।
फल का रंग-रूप जगजाहिर, कौन स्वाद का देवे प्रमान ।।

प्रतिरूप फलों का दिखता है, स्वाद रहे जस तन में प्राण ।
स्वाद बिना फल होवे कैसा, फल बिन स्वाद चढ़े परवान ।।

जर्रा-जर्रा अल्ला बसता, कण-कण में होते भगवान ।
सूफी संत पीर पैगम्बर, महापुरूष अवतारी प्राण ।।

दुनिया के ओ हर दुख मेटे, मानव को केवल मानव मान ।
किये इबादद मानवता के, कर मानवता के गुणगान ।।

मानवता ही धर्म बड़ा है, मानव को माने भगवान ।
दोजक-जन्नत स्वर्ग-नरक को, ठौर कर्मफल का ही जान ।

कर्मलोक में कर्म करें सब, ईश्वर अल्ला का फरमान ।
दूजे को पीर नही देना, कर्म इसे ही अपना जान

शनिवार, 15 जुलाई 2017

शिवशंकर ओम

बोल बम्म के गूंज से, गूंज रहा है व्योम ।
जय जय भोलेनाथ जय, जय शिवशंकर ओम ।

आदि देव ओंकार शिव, सकल सृष्टि के कंत ।
जगत उपेक्षित जीव के, प्रियवर शिव भगवंत ।।

महाकाल अवलंब जग, जीवन शाश्वत सत्य ।
निराकार ओंकार शिव, रूप गूढ़ आनंत्य ।।

जटा सोम गंगा पुनित, आदि शक्ति अर्धांग ।
नील वर्ण ग्रीवा गरल, जग व्यापक धवलांग ।।

कंठ ब्याल अँग भस्म रज, हस्त बिच्छु विष डंक ।
संग भूत बेताल बहु, फिर भी भक्त निशंक ।।

आषुतोष शंकर सरल, अवघरदानी देव ।
श्रद्धा अरु विश्वास धर, भक्त करें हैं सेव ।।

चरण-शरण प्रभु लीजिये, हम माया आसक्त ।
पूजन विधि जाने नही, पर हैं तेरे भक्त ।।

बुधवार, 12 जुलाई 2017

हे भारत के भाग्य विधाता

हे भारत के भाग्य विधाता, मतदाता भगवान ।
नेताओं के कर्मों पर भी, देना प्रभु कुछ ध्यान ।।

देश आपका स्वामी आपहि, समरथ सकल सुजान ।
नेता नौकर-चाकर ठहरे, राजा आप महान ।।

देश आपको गढ़ना स्वामी, रख कर इसको एक ।
नौकर-चाकर ऐसे रखिये, वफादार अरु नेक ।।

शक्ति आपके पाकर के जो, केवल करते ऐश ।
निर्धन से जो धनवान हुये, बेच बेच कर देश ।।

जात-पात के खोदे खाई, ऊँच-नीच कॆ कूप ।
आतंकी और नक्सली भी, पालें हैं जो छूप ।।

जागें जागें हे जनार्दन, छोड़ें शैय्या शेष ।
हाथ सुदर्शन लेकर के प्रभु, मेटें सारे क्लेष ।।

-रमेश चौहान

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

एक-एक की छाती फाड़ों, बचे न अत्याचारी

रोना-धोना छोड़ करें अब, बदले की तैयारी ।
एक-एक की छाती फाड़ों, बचे न अत्याचारी ।

अमरनाथ के भक्तों को जो, घात लगा कर मारे ।
आजादी या जेहादी के, जो लगा रहे नारे ।।

कश्मीर हमारे पुरखों का, नही बाप के उनके ।
धर्म नही है कोई कमतर, हमको समझे तिनके ।।

छुप-छुप कर जो आतंकी बन, करते हैं बमबारी ।
एक-एक की छाती फाड़ों, बचे न अत्याचारी ।।

सरहद के रखवालों को, जो छुप-छुप कर मारे ।
जिनके हाथों पर हैं पत्थर, आतंकी हैं सारे ।।

राष्ट्र धर्म ही धर्म बड़ा है, जो बात न यह माने ।
ऐसे दुष्टों को तो केवल, शत्रु राष्ट्र का जाने ।।

ऐसे बैरीयों से लड़ने, तोड़ो हर लाचारी ।
एक-एक की छाती फाड़ों, बचे न अत्याचारी ।

जो बैरी हो बाहर का या, विभिषण होवे घर का ।
जो भगवा चोला धारे या, ओढ़ रखें हो बुरका ।।

छद्म धर्म निरपेक्षी बनकर, जो करते नौटंकी ।
खोज निकालो ऐसे बैरी, जो पाले आतंकी ।।

बहुत सहे आतंकी सदमा, अब है उनकी बारी
एक-एक की छाती फाड़ों, बचे न अत्याचारी ।


चलो चाल सरकार, बचे ना अब आतंकी

आतंकी करतूत से, दहल रहा कश्मीर ।
पोषित कुलषित सोच से, सींच रहें हैं पीर ।।
सींच रहें हैं पीर, रूप आतंकी धारे ।
जन्नत में शैतान, आदमीयत को मारे ।।
छुप-छुप करते वार, चाल चलते हैं बंकी ।
चलो चाल सरकार, बचे ना अब आतंकी ।।

दुष्टों का संघार, करें अब हे शिव भोले

हे शिव भोले नाथ प्रभु, देखें नयन उघार ।
तेरे भक्तों पर हुआ, फिर से अत्याचार ।
फिर से अत्याचार, शत्रु मानव के करते ।
देव विरोधी दैत्य, प्राण भक्तों के हरते ।।
अमरनाथ के नाथ, भक्त हर-हर हर बोले ।
दुष्टों का संघार, करें अब हे शिव भोले ।।

गुरुवार, 6 जुलाई 2017

रक्तों का प्यासा हुआ, भेड़ों का वह भीड़

रक्तों का प्यासा हुआ, भेड़ों का वह भीड़ ।
अफवाहों में जल रहे, निर्दोषों का नीड़ ।।
निर्दोषों का नीड़,  बचे चिंता है किसको ।
जनता बकरी-भेड़, आज लगते हैं जिसको ।
खरी-खरी इक बात, कहें उन अनुशक्तों का ।
फँसे लोभ के फाँस, , हुये प्यासे रक्तों का।

सोमवार, 3 जुलाई 2017

नेता सोचे बात को

द्वंद पक्ष-विपक्ष करे, हाथ लिये भ्रम जाल ।
फँसे हुये हैं आमजन, चुरा रहे ये माल ।।

सत्य-सत्य होता सदा, नहीं सत्य में भेद ।
राजनीति के द्वंद से, दिखते इसमें छेद ।।

राष्ट्र हमारा एक है, राष्ट्र धर्म भी एक ।
वैचारिक मतभेद से, नेता बने अनेक ।।

लोकतंत्र के ढाल से, करते रहें विरोध ।
राष्ट्रधर्म के राह पर, रचते क्यों अवरोध ।।

सबका परिचय देश से, देश रहे जब एक ।
नेता सोचे बात को, सब जनता है नेक ।।

मैं बच्चों का बाप

है बच्चों का लालन-पालन, कानूनी  कर्तव्य ।
पर कानूनी  अधिकार नही, देवें निज मंतव्य ।।

पाल-पोष कर मैं बड़ा करूं, हूँ बच्चों का बाप ।
मेरे मन का वह कुछ न करे,  है कानूनी श्राप  ।।

जन्म पूर्व ही बच्चों  का मैं, देखा था जो स्वप्न ।
नैतिकता  पर कानून बड़ा, रखा इसे अस्वप्न ।।

दशरथ  के संकेत  समझ तब, राम गये वनवास 
अगर आज दशरथ  होते जग, रहते कारावास ।।

मंगलवार, 27 जून 2017

मेघा बरसो झूम के

काँव-काँव कागा करे, ची.-चीं चहके चिड़िया,
मल्हार छेड़े झिंगुरा, मेघा बरसो झूम के ।
होले-होले पेड़ नाचे, पर पसारे मोरनी,
बेसुध हो मन नाचे, मेघा बरसो झूम के ।।
धरा की धानी आँचल, नदियों की खिली बाँहे
लिख रहीं नवगीत, मेघा बरसो झूम के ।
रज सौंधी सुवासित, जब तन-मन छाये
कली बलखाती गाती, मेघा बरसो झूम के ।।

शनिवार, 17 जून 2017

प्रतिक दिखे ना हिन्द का

स्वतंत्रता के नाम पर, किया गया षड़यंत्र ।
प्रतिक दिखे ना हिन्द का, रचा गया वह तंत्र ।।

मुगलों का प्राचीर है,, अंग्रेजों का मंत्र ।
रखा गया ना एक भी, हिन्दुस्तानी तंत्र ।।

जगत एक परिवार है, केवल कहता हिन्द ।
एक खेल है चल रहा, बचे न इसके बिन्द ।।

कहते छाती ठोक जो, हम ही किये विकास ।
रंग किये जर्जर भवन,, करके नींव विनाश ।।

हम ही अपने शत्रु हैं, दूजे तो है मित्र ।
कल की गलती जान कर, सीखें कोई सीख ।।

गुरुवार, 15 जून 2017

कठिनाई सर्वत्र है

कठिनाई सर्वत्र है,  चलें किसी भी राह ।
बंधन सारे तोड़िये, मन में भरकर चाह ।।
मन में भरकर चाह, बढ़े मंजिल को पाने ।
नही कठिन वह लक्ष्य, इसे निश्चित ही जाने ।।
सुनलो कहे रमेश, हौसला है चिकनाई ।
फौलादी संकल्प, तोड़ लेते कठिनाई ।।

बुधवार, 14 जून 2017

वर्षो से परतंत्र हैं

वर्षो से परतंत्र है, भारतीय परिवेश  ।
मुगलों  ने कुचला कभी, देकर भारी क्लेश ।।
देकर भारी क्लेश, कभी आंग्लों ने लूटा ।
देश हुआ आजाद,  दमन फिर भी ना छूटा  ।।
संस्कृति अरु संस्कार, सुप्त है अपकर्षो से ।
वैचारिक  परतंत्र, पड़े हैं हम वर्षो से ।।
-रमेश चौहान

सोमवार, 12 जून 2017

अपनी रेखा गढ़ लें

हर रेखा बड़ी होती, हर रेखा होती छोटी,
सापेक्षिक निति यह, समझो जी बात को ।
दूसरों को छेड़े बिन, अपनी रेखा गढ़ लें
उद्यम के स्वेद ले, तोड़ काली रात को।।
खीर में शक्कर चाही, शाक में तो नमक रे
सबका अपना कर्द, अपना ही मोल है ।
दूर के ढोल सुहाने, लगते हों जिसको वो
जाकर जी देखो भला, ढोल मे भी पोल है ।।

सोमवार, 22 मई 2017

अर्थ स्वच्छता के समझ

कोना-कोना स्वच्छ हो, स्वच्छ बने हर गाँव ।
अर्थ स्वच्छता के समझ, रम्य करें हर ठाँव ।।
रम्य करें हर ठाँव, स्वच्छता को कर धारण।
गगन तले का शौच, नहीं एकाकी कारण ।
कारण भारी एक, कुड़े करकट का होना ।
बदलें निज व्यवहार, स्वच्छ हो कोना-कोना ।।

गुरुवार, 27 अप्रैल 2017

सैनिक की माँ पूछती


सैनिक की माँ पूछती, कब तक मरे जवान ।
लड़े बिना शहीद हुये, बेटा मेरे प्राण ।।
बेटा मेरे प्राण, दूध मेरा पीया है ।
मरा देश के नाम, देश हित ही जीया है ।।
मुझे नही मंजूर, मृत्यु वीरों का दैनिक ।
बिना लड़े इक युद्ध, मरे ना कोई सैनिक ।।


शनिवार, 22 अप्रैल 2017

साचा साचा बात है

साचा साचा बात है, नही साच को आच ।
राजनीति के आच से, लोग रहे हैं नाच ।।
लोग रहे हैं नाच, थाम कर कोई झंडा ।
करते इनकी बात, जुबा पर लेकर डंडा ।।
साचा कहे रमेश, नही कोई अपवाचा ।
यही सही उपचार, राजनेता हो साचा ।।

शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017

नष्ट मूल से कीजिये

राजनीति के जाल में, राष्ट्रप्रेम क्यो कैद ।
एक राष्ट्रद्रोही दिखे, दूजा प्रेमी बैद ।।

करें खूब आलोचना, लोकतंत्र के संग ।
द्रोह देष से क्यों करे, राजनीति के रंग ।।

सेलिब्रेटी मान्यजन, रहे नही अब मौन ।
नष्ट मूल से कीजिये, हर आतंकी दौन ।।
(दौन-दमन)

राष्ट्र धर्म (दोहे)

साथ खड़े जो शत्रु के, होते नहीं अजीज ।
शत्रु वतन के जो दिखे, उनके फाड़ कमीज ।।

राष्ट्रद्रोह के ज्वर से दहक रहा है देश 
सुख खोजे निजधर्म में राष्ट्र धर्म में क्लेष ।।

प्रेम प्रेम ही चाहता, कटुता चाहे बैर ।
प्रेम प्रेम ही बाँटकर, देव मनावे खैर ।

अभिव्यक्ति के नाम पर, राष्ट्रद्रोह क्यों मान्य 
सहिष्णुता छल सा लगे, चुप हो जब गणमान्य ।।

तुला धर्म निरपेक्ष का, भेद करे ना धर्म ।
अ, ब, स, द केवल वर्ण है, शब्द भाव का कर्म ।

मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

मरे तीन तलाक से

मरे तीन तलाक से कोई, कोई तलाक पाने ।
कोई रखते पत्नी ज्यादा, कोई एक न जाने ।।

कुचली जाती पत्नी कोई, इस तलाक के दम पर ।
गोद पड़े बच्चे बेचारे, जीवित मरते गम पर ।।

कोई पत्नी बैठी मयके, खर्चे पति से लेती ।
पति ले जाने तैयार खड़ा, पर वह भाव न देती ।।

पति से पीड़ित पत्नी कोई, कोई पत्नी पीड़ित ।
सही नही है नियम एक भी, दोनों है सम्पीड़ित ।।

समरसता का नैतिक शिक्षा, मन में भरना होगा ।
मिटे मूल से यह बीमारी, इलाज करना होगा ।।


कूड़े करकट सम मैं पड़ा


मैं बिकने को तत्पर खड़ा । केवल प्रेम मोल पर अड़ा
ऐसे क्रेता कोई नही । जिनके बाहर अंदर सही

कोई तो मीठे बोल से । कोई अपने चषचोल से
अपने वश कर ले जो मुझे । एक न ऐसे साथी सुझे

एक मुखौटा मुख पर ढके । मुझे शिकारी जैसे तके
मेरे बढ़ते हर पाद को । सह न सके कुछ आस्वाद को

कैसे झूलूँ उनके बाँह में । कैसे दौडूँ उनके राह में
मोल रहित हो मैं तो खड़ा । कूड़े करकट सम मैं पड़ा

बैरी बाहर है नहीं

बैरी बाहर है नहीं, घर अंदर है चोर ।
मानवता के नाम पर, राष्ट्र द्रोह ना थोर ।।
राष्ट्र द्रोह ना थोर, शत्रु को पनाह देना ।
गढ़कर पत्थरबाज, साथ उनके हो लेना ।।
राजनीति का स्वार्थ, कहां है अब अनगैरी ।
सैनिक का अपमान, मौन हो देखे बैरी ।।

सोमवार, 10 अप्रैल 2017

मूल्य समय का होता जग में

शादी करने आयु न्यूनतम, निश्चित है इस देश ।
नहीं अधिकतम निर्धारित है, यह भी चिंता क्लेष ।।

अल्प आयु में मिलन देह का, या विवाह संबंध ।
चिंता दोनो ही उपजाते, हो इन पर प्रतिबंध ।।

चढ़े प्रीत का ज्वर है सबको, जब यौवन तन आय ।
सपने में सपने का मिलना, नाजुक मन को भाय ।।

कच्चे मटके कच्चे होते, जाते हैं ये टूट ।
पकने से पहले प्रयोग का, नहीं किसी को छूट ।।

मूल्य समय का होता जग में, माने यह व्यवहार ।
रखे-रखे पके हुये फल भी, हो जाते बेकार ।।

गुरुवार, 30 मार्च 2017

दिखे राष्ट्र उद्योग

राष्ट्र धर्म जब एक तो, बटे हुये क्यो लोग ।।
निश्चित करें प्रतीक कुछ, दिखे राष्ट्र उद्योग।।

अच्छा को अच्छा कहें, लेकर उसका नाम ।
बुरा बुराई भी कहें, लख कर उसका काम ।।

कट्टरता के नाम पर, धर्म हुआ बदनाम ।
राष्ट्र धर्म भी धर्म है, कहते रहिमा राम ।।

भगवा की धरती हरी, भगवा हीना रंग ।
जो समझे सब एक हैं, बाकी करते तंग ।।

गुरुवार, 23 मार्च 2017

उनको कोटि प्रणाम,

आजादी पर हैं किये, जो जीवन बलिदान ।
मातृभूमि के श्री चरण, भेट किये निज प्राण ।।
भेट किये निज प्राण, राष्ट्र सुत आगमजानी ।
राजगुरू सुखदेव, भगत जैसे बलिदानी ।
जिसके कारण देश, लगे हमको अहलादी ।
उनको कोटि प्रणाम, हमें दी जो आजादी ।।

बुधवार, 22 मार्च 2017

राष्ट्र से जोड़े नाता

चलो चले उस राह, चले थे जिस पर बाबा ।
पूजें अपना देश, यही है काशी काबा ।
ओठों पर जय हिन्द, दिलों पर भारत माता ।
राष्ट्रधर्म ही एक, राष्ट्र से जोड़े नाता ।।

शुक्रवार, 17 मार्च 2017

इतिहास में दबे पड़े हैं काले हीरे मोती

इतिहास में दबे पड़े हैं
काले हीरे मोती

अखण्ड़ भारत का खण्डित होना
किया जिसने स्वीकार
महत्वकांक्षा के ढोल पीट कर
करते रहे प्रचार

आजादी के हम जनक हैं
सत्ता हमारी बापोती

धर्मनिरपेक्षता को संविधान का
जब गढ़ा गया था प्राण
बड़े वस्त्र को काट-काट कर
क्यों बुना फिर परिधान

पैजामा तो हरपल साथ रहा पर
उपेक्षित रह गया धोती

जात-पात, भाषा मजहब में
फहराया गया था तिरंगा
क्यों कर देष में होता रहा
फिर अबतक मजहबी दंगा

वोट बैंक के कलम लिये
करते रह गये लीपा-पोती

आरक्षण अनुदान समता की सीढ़ी
बना गया एक हथियार
दीन-हीनों के हिस्से के दाने
खाते रह गये होषियार

भूल सफलता की कुंजी है
करें स्वीकार चुनौती

मंगलवार, 14 मार्च 2017

तुम्हे शादी है करना

करना चाहे बाप जब, मना करे हैं पुत्र ।
समझ सके ना बाप वह, बेटे का यह सूत्र ।।
बेटे का यह सूत्र, अभी करूंगा ना शादी ।
खड़ा नहीं हूॅं पैर, बात समझें बुनियादी ।।
मन में रख संतोष,  बात बेटा तू धर ना ।
आयु हुआ अब तीस, तुम्हे शादी है करना।।
-रमेश चौहान

सोमवार, 6 मार्च 2017

करे खुद बेईमानी

ज्ञानी ध्यानी जन कहे, जात-पात को छोड़ ।
धर्म, लिंग जंजीर को, शक्ति लगा कर तोड़ ।।
शक्ति लगा कर तोड़, डगर में जो हो बाधा ।
मानव मानव एक, मनुजता के हैं ये व्याधा ।
पर क्या देखे रमेश, करे खुद बेईमानी ।
अपना अपना राग, अलापे ज्ञानी ध्यानी ।।

कवि सम्मेलन

कवि सम्मेलन जो हुये, जाति लिंग आधार ।
मानवता पथ छोड़ कवि, गढ़े कौन सा राह ।
गढ़े कौन सा राह, बीज अंतर का बो कर ।
जिसके कांधे भार, जागते रहते सो कर ।
समता गढ़ो रमेश, छोड़ जग का अवहेलन ।
सबको करने एक, कीजिये कवि सम्मेलन ।।

साचा उत्तर दीजिये

साचा उत्तर दीजिये, क्यों बैठे हो मौन ?
प्यार और संबंध में, पहले आया कौन ??
पहले आया कौन, फूल या फूल सुगंधी ?
रिश्ता से है प्यार, या प्यार से संबंधी ??
पूछे प्रश्न रमेश, नहीं कोई अपवाचा ।
केवल कहिये सत्य, प्रश्न का उत्तर साचा ।।

रविवार, 5 मार्च 2017

नर-नारी एक समान

नर
बेटा है
प्रेमी है, पति है
दामाद है
पिता है
दादा है
दादी है
विदुर भी है
कि
राष्ट्रपिता है
विवेकानंद भी
और
कालों के काल
महादेव ।
महादेव
अर्धनारीश्वर
बन कर
बतलाया
नर-नारी
एक समान
न नर भारी
न नारी ।।
-रमेशकुमार सिंह चौहान

बुधवार, 1 मार्च 2017

महिलाएं भी इसी पत्रिका से करे निमंत्रण स्वीकार

महिलाएं भी इसी पत्रिका से
करे निमंत्रण स्वीकार

मेरे हाथ पर निमंत्रण कार्ड है
पढ़-पढ़ कर सोच रहा हूॅ
विभाजनकारी रेखा देख
खुद को ही नोच रहा हूॅं

कर्तव्यों की डोर शिथिल पड़ी
अकड़ रहा अधिकार

भाभी के कहे भैया करते
भैया के कहे पर भाभी
घर तो दोनों का एक है
एक घर के दो चाबी

अर्धनारेश्वर आदिदेव हैं
जाने सकल संसार

मेरा-तेरा, तेरा-मेरा
गीत गा रहा है कौन
प्रश्न, यक्ष-प्रश्न से बड़ा
युधिष्ठिर खड़ा है मौन

परिवार बड़ा है या है बड़ा
फैशन का यह बाजार

रविवार, 26 फ़रवरी 2017

प्रश्न उठता है तब से

तब से लेकर आज तक, दिखे एक ही हाल ।
मुद्दा यह कश्मीर का, फँसा हूआ किस चाल ।।
फँसा हूआ किस चाल, चीन अक्साई बनकर ।
घेर रखे कश्मीर, पाक तब से अब तनकर ।।
बांट रहें है देश, मिले आजादी जब से ।
भारत के हैं कौन, प्रश्न उठता है तब से ।

उपेक्षित रहे न बेटा

बेटा बेटी एक है, इसमें नहीं सवाल ।
पढ़ी लिखीं हर बेटियां, करती नित्य कमाल ।।
करती नित्य कमाल, खुशी देती हैं सबको ।
बेटा क्यों कमजोर, लगे अब दिखने हमको ।।
चिंता करे ‘रमेश‘, बढ़े ना क्यों दुलहेटा ।
जरा दीजिये ध्यान, उपेक्षित रहे न बेटा ।।
(दुलहेटा-दुलारा बेटा)

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2017

कुछ समझ नही पाता

मैं गदहा घोंचू हॅूं
कुछ समझ नही पाता

मैं भारत को आजाद समझता
वे आजादी के लगाते नारे
जिसे मैं बुद्धजीवी कहता
उनसे वे निभाते भाईचारे

अपने वतन को जो गाली देता
राष्ट्र भक्त बन जाता

मैं धरती का सेवक ठहरा
वे कालेज के बच्चे
मेरी सोच सीधी-सादी
वो तो ज्ञानी सच्चे

माँ-बाप को घाव देने वाला
श्रवण कुमार कहलाता

मैं कश्मीर का निष्कासित पंड़ित
वे कश्मीर के करिंदे
मेरे आँसू झर-झर झरते
पोंछ सके न परिंदे

जो आता पास मेरे
सम्प्रदायिक हो जाता

मैं लोकतंत्र बिछा चौसर
वे शकुनी के फेके पासे
दिल्ली की गद्दी युधिष्ठिर
फस  गये उसके झांसे

धृतराष्ट्र का राजमोह
दुर्योधन को ही भाता

गुरुवार, 23 फ़रवरी 2017

एक राष्ट्र हो किस विधि

एक-दूजे के पूरक होकर
यथावत रखें संसार
पक्ष-विपक्ष राजनीति में
जनता के प्रतिनिधि
प्रतिवाद छोड़ सोचे जरा
एक राष्ट्र हो किस विधि
अपने पूँछ को शीश कहते
दिखाते क्यों चमत्कार
हरे रंग का तोता रहता
जिसका लाल रंग का चोंच
एक कहता बात सत्य है
दूजा लेता खरोच
सत्य को ओढ़ाते कफन
संसद के पहरेदार
सागर से भी चौड़े हो गये
सत्ता के गोताखोर
चारदीवारी के पहरेदार ही
निकले कुंदन चोर
राजनीति के वायरस से
सिस्टम हुआ बीमार
सिक्के के दो पहलू होते
वाहन के दो पहिये
दो-दो के हैं जोड़ जगत में
इन्हें शत्रु मत कहिये
समर्थक-विरोधी, बाल-वृद्ध
खास-आम, नर-नार

रविवार, 12 फ़रवरी 2017

काम मांगे मतदाता

मतदाता को मान कर, पत्थर सा भगवान ।
नेता नेता भक्त बन, चढ़ा रहे पकवान ।।
चढ़ा रहे पकवान, एक दूजे से बढ़कर ।
रखे मनौती लाख, घोषणा चिठ्ठी गढ़कर ।।
बिना काम का दाम, मुफ्तखोरी कहलाता ।
सुन लो कहे ‘रमेश‘, काम मांगे मतदाता ।।

देना है तो दीजिये, हर हाथों को काम ।
नही चाहिये भीख में, कौड़ी का भी दाम ।।
कौड़ी का भी दाम, नहीं मिल पाते हमको ।
अजगर बनकर तंत्र, निगल जाते हैं सबको ।।
सुन लो कहे ‘रमेश‘, दिये क्यों हमें चबेना ।
हमें चाहिये काम, दीजिये जो हो देना ।।

गुरुवार, 26 जनवरी 2017

आज पर्व गणतंत्र का

आज पर्व गणतंत्र का, मना रहा है देश ।
लोक कहां है तंत्र में, दिखे नहीं परिवेश ।।
बना हुआ है स्वप्न वह, देखे थे जो आँख ।
जन मन की अभिलाष सब, दबा तंत्र के काख ।।
निर्धन निर्धन है बना, धनी हुये धनवान ।
हिस्सा है जो तंत्र का, वही बड़ा बलवान ।।
-रमेश चौहान

गुरुवार, 12 जनवरी 2017

कहे विवेकानंद

पाना हो जो लक्ष्य को, हिम्मत करें बुलंद ।
ध्येय वाक्य बस है यही, कहे विवेकानंद ।।
कहे विवेकानंद, रूके बिन चलते रहिये ।
लक्ष्य साधने आप, पीर तो थोड़ा सहिये ।
विनती करे ‘रमेश‘, ध्येय पथ पर ही जाना ।
उलझन सारे छोड़, लक्ष्य को जो हो पाना ।।

सोमवार, 9 जनवरी 2017

//ममता स्मृति क्लब नवागढ, जिला बेमेतरा//


(उल्लाला छंद)

ममता स्मृति क्लब अति पुनित, ममता का ही मर्म है ।
प्रेम स्नेह ही बांटना, इसका पावन धर्म है ।।

डॉक्टर अजीत प्रेम से, घुले मिले थे गांव में ।
डॉक्टर हो वह दक्ष थे, कई खेल के दांव में ।।

प्यारी सुता अजीत की, प्यारी थी इस गांव को ।
सात वर्ष की आयु में, जो तज दी जग ठांव को ।।

उस ममता की स्मृति में, ग्रामीणों का कर्म है ।
जाति धर्म अंतर रहित, समरसता का मर्म है ।

शान नवागढ़ का यही, हम सबका मान है ।
चवालीस से अब तलक, बना हुआ पहचान है ।।

खेल-खेल में प्रेम का, सुधा नीर बरसा रही ।
बाल जवा अरू वृद्ध को, आज तलक हरषा रही । ।

खेल संगठन ही नही, यह इक केवल खेल का ।
सामाजिक संस्था रहा, ग्रामीणों के मेल का ।।

खेल कबड्डी खेल कर, रचा एक इतिहास है।
खेले वॉलीवाल भी, जिनका आज प्रकाश है ।।

नेत्र शिविर रचकर कभी, सुयश किये हैं गांव में ।
रक्तदान करके अभी, नाम किये हैं ठांव में ।।

खास आम सब गांव के, निर्धन अरू धनवान भी ।
सेवा करने आय जो, गांव के मेहमान भी ।

गढ़े पाठ सौहार्द के, ममता क्लब के हाथ हो।
हिन्दू मुस्लिम सिक्ख अरू, ईसाई सब साथ हो ।

जाने है इस मर्म को, खेल भावना धर्म है ।
समरसता बंधुत्व ही, ममता क्लब का कर्म है ।

शनिवार, 7 जनवरी 2017

गणेशजी की आरती

जय गौरी नंदन, विघ्न निकंदन, जय प्रथम पूज्य, भगवंता ।
जय शिव के लाला, परम दयाला, सुर नर मुनि के, प्रिय कंता ।।

मध्य दिवस सुचिता, भादो पुनिता, शुक्ल चतुर्थी, शुभ बेला ।
प्रकटे गणनायक, मंगल दायक, आदि शक्ति के, बन लेला ।।

तब पिता महेशा, किये गणेशा, करके गजानन, इक दंता ।
जय गौरी नंदन, विघ्न निकंदन, जय प्रथम पूज्य, भगवंता ।।

रिद्धि सिद्धि द्वै, हाथ चवर लै, निशदिन करतीं, हैं सेवा ।
तुहरे शरण खड़े, जयकार करे, तैतीस कोटि, सब देवा ।।

प्रभु दर पर तेरे, शाम सबेरे, माथा टेके, सब संता ।
जय गौरी नंदन, विघ्न निकंदन, जय प्रथम पूज्य, भगवंता ।।

जय जय सुखकारी, जन हितकारी, मेरी नैय्या, हाथ धरें ।
सब भक्त पुकारे, तेरे द्वारे, सकल मनोरथ, पूर्ण करें ।।

?लेला-शिशु, बच्चा