शुक्रवार, 11 सितंबर 2015

कट्टरता

रे
इंसा
कट्टर
बनकर
क्यों लगाते हो
घोसलों में आग
जहां तेरा घरौंदा।।

एक टिप्पणी भेजें