शनिवार, 10 मार्च 2018

अभी तो पैरों पर कांटे चुभे है,

अभी तो पैरों पर कांटे चुभे है,
पैरों का छिलना बाकी है

जीवन एक दुश्कर पगडंडी
सम्हल-सम्हल कर चलने पर भी
जहां खरोच आना बाकी है

चिकनी सड़क पर हमराही बहुत है
कटिले पथ पर पथ ही साथी
जहां खुद का आना बाकी है

चाहे हँस कर चलें हम
चाहे रो कर चलें हम
चलते-चलते गिरना
गिर-गिर कर सम्हलना
यही जीवन का झांकी

एक टिप्पणी भेजें