मंगलवार, 2 फ़रवरी 2016

जग का मूल

कर्म ज्ञान है बाटती, विद्यालय की धूल ।
धूल माथ रखना सदा, जाना मत तुम भूल ।
भूल सुधारो आप अब, मानवता हो लक्ष्य ।
लक्ष्य एक है आपका, है जो जग का मूल ।।

-रमेश चौहान
एक टिप्पणी भेजें