शुक्रवार, 2 मई 2014

मतपेटी तो बोलेगी , आज मेरे देश में

झूठ और फरेब से, सजाये दुकानदारी ।
व्यपारी बने हैं नेता,  आज मेरे देश में ।।
वादों के वो डाले दाने, जाल कैसे बिछायें है ।
शिकारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
जात पात धरम के, दांव सभी लगायें हैं ।
जुवारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
तल्ख जुबान उनके, काट रही समाज को ।
कटारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।

दामन वो फैलाकर, घर घर तो घूम रहे ।
भिखारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
मंदिर मस्जिद द्वार,  वह माथा टेक रहे ।
पुजारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
मनोहारी करतब, वो तो अब दिखा रहे ।
मदारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
दंगो के बुझे आग को, फिर वो सुलगा रहे ।
चिंगारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।

यक्ष प्रश्न पूछे सभी, युघिष्ठिर नही कोई ।
प्रश्नों के सैलाब बहे, आज मेरे देश में ।।
अपना चेहरा कोई, देख सके भला कैसे ।
धृतराष्ट्र सम नेता, आज मेरे देश में ।।
राजसिंहासन पर, हक अपना अपना ।
जता रहे दल सभी, आज मेरे देश में ।।
शोर करे नेता अभी, जनता साधे मौन है ।
मतपेटी तो बोलेगी , आज मेरे देश में ।।
एक टिप्पणी भेजें