शुक्रवार, 18 अप्रैल 2014

गीतिका छंद

प्रेम का मै हू पुजारी, प्रेम मेरा आन है ।
प्रेम का भूखा खुदा भी, प्रेम ही भगवान है ।।
वासना से तो परे यह, शुद्ध पावन गंग है ।
जीव में जीवन भरे यह, प्रेम ही तो प्राण है ।।

पुत्र करते प्रेम मां से, औ पिता पु़त्री सदा ।
नींव नातो का यही फिर, प्रेम क्यो अनुदान है ।।
बालपन से है मिले जो, प्रेम तो लाचार है ।
है युवा की क्रांति देखो, प्रेम आलीशान है ।।

गोद में तुम तो रहे जब से, मां पिता कैसे गढ़े ।
हो गये जो तुम बड़े फिर,  क्यों भला परशान है ।।
वो सुहाने देख सपने, हंै किये तुम को बड़े ।
पूर्ण हो कैसे भला जब, स्वप्न ही अभिमान है ।।

-रमेश चैहान
एक टिप्पणी भेजें