गुरुवार, 10 मई 2018

शिक्षा में संस्कार हो

शिक्षा में संस्कार हो, कहते हैं सब लोग ।
शिक्षा में व्यवहार का, निश्चित हो संजोग ।
निश्चित हो संजोग, समझ जीवन जीने का ।
सहन शक्ति हो खास, कष्ट प्याला पीने का ।
पर दिखता है भिन्न, स्कूल के इस दीक्षा में ।
टूट रहा परिवार, आज के इस शिक्षा में ।।
एक टिप्पणी भेजें