सोमवार, 3 जुलाई 2017

मैं बच्चों का बाप

है बच्चों का लालन-पालन, कानूनी  कर्तव्य ।
पर कानूनी  अधिकार नही, देवें निज मंतव्य ।।

पाल-पोष कर मैं बड़ा करूं, हूँ बच्चों का बाप ।
मेरे मन का वह कुछ न करे,  है कानूनी श्राप  ।।

जन्म पूर्व ही बच्चों  का मैं, देखा था जो स्वप्न ।
नैतिकता  पर कानून बड़ा, रखा इसे अस्वप्न ।।

दशरथ  के संकेत  समझ तब, राम गये वनवास 
अगर आज दशरथ  होते जग, रहते कारावास ।।

एक टिप्पणी भेजें