मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

मरे तीन तलाक से

मरे तीन तलाक से कोई, कोई तलाक पाने ।
कोई रखते पत्नी ज्यादा, कोई एक न जाने ।।

कुचली जाती पत्नी कोई, इस तलाक के दम पर ।
गोद पड़े बच्चे बेचारे, जीवित मरते गम पर ।।

कोई पत्नी बैठी मयके, खर्चे पति से लेती ।
पति ले जाने तैयार खड़ा, पर वह भाव न देती ।।

पति से पीड़ित पत्नी कोई, कोई पत्नी पीड़ित ।
सही नही है नियम एक भी, दोनों है सम्पीड़ित ।।

समरसता का नैतिक शिक्षा, मन में भरना होगा ।
मिटे मूल से यह बीमारी, इलाज करना होगा ।।


एक टिप्पणी भेजें