गुरुवार, 30 मार्च 2017

दिखे राष्ट्र उद्योग

राष्ट्र धर्म जब एक तो, बटे हुये क्यो लोग ।।
निश्चित करें प्रतीक कुछ, दिखे राष्ट्र उद्योग।।

अच्छा को अच्छा कहें, लेकर उसका नाम ।
बुरा बुराई भी कहें, लख कर उसका काम ।।

कट्टरता के नाम पर, धर्म हुआ बदनाम ।
राष्ट्र धर्म भी धर्म है, कहते रहिमा राम ।।

भगवा की धरती हरी, भगवा हीना रंग ।
जो समझे सब एक हैं, बाकी करते तंग ।।

एक टिप्पणी भेजें