बुधवार, 22 मार्च 2017

राष्ट्र से जोड़े नाता

चलो चले उस राह, चले थे जिस पर बाबा ।
पूजें अपना देश, यही है काशी काबा ।
ओठों पर जय हिन्द, दिलों पर भारत माता ।
राष्ट्रधर्म ही एक, राष्ट्र से जोड़े नाता ।।

एक टिप्पणी भेजें