शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

शब्द भेदी बाण-2

घाल मेल के रोग से,  हिन्दी है बीमार ।
अँग्रेजी आतंक से, कौन उबारे यार ।।

हिन्दी की आत्मा यहाँ, तड़प रही दिन रात ।
देश हुये आजाद है,  या है झूठी बात ।।

-रमेश चौहान

एक टिप्पणी भेजें