शनिवार, 22 अक्तूबर 2016

// शब्द भेदी बाण-1//

तोड़ें उसके दंभ को, दिखा रहा जो चीन ।
चीनी हमें न चाहिये, खा लेंगे नमकीन ।।

राष्ट्र प्रेम के तीर से, करना हमें शिकार ।
बचे नही रिपु एक भी, करना ऐसे वार ।।

- रमेश चौहान

एक टिप्पणी भेजें