रविवार, 12 जून 2016

जागो हिन्दू अब तो जागो

कौन सुने हिन्दू की बातें, गैर हुये कुछ अपने ।
कुछ गहरी निद्रा में सोये, देख रहें हैं सपने ।।

गढ़ सेक्यूलर की दीवारे, अपने हुये पराये ।
हिन्दूओं की बातें छोड़ो, हिन्दू जिसे न भाये ।।

धर्म निरपेक्ष का चोला धर, बनते उदारवादी ।
राजनीति में माहिर वो तो, केवल अवसरवादी ।।

उनको माने सोने चांदी, हमको सिक्के खोटे ।
उनके जुकाम भारी लगते, घाव हमारे छोटे ।।

अंधे बहरे हो जाते क्यों, वो मानवतावादी ।
अत्याचार दिखे ना उनको, जब हिन्दू फरयादी ।

ऐसे लोगो की कमी नही, जो अपने में खोये ।
दूजे की जो चिंता छोड़े, पैर पसारे सोये ।।

नहीं हमारा बैरी दूजा, शत्रु यही हैं सारे ।
आजादी से लेकर अबतक, जो हमको हैं मारे ।

कौन निकाले हैं पंडित को, जो घाटी में खेले ।
उनके आंखों के आंसू भी, जिनको लगे झमेले ।।
 
मेरी धरती मेरा अंबर, फिर भी मैं बेगाना ।
जहां अल्प संख्यक है हिन्दू, वहां बने ‘कैराना’ ।।

परहेज हमें क्यों कर होगा, बरकत होवे सबका ।
हिन्दू इस धरती के जाये, क्यों फिर कुचला तबका । 

जागो हिन्दू अब तो जागो, गहरी निद्रा छोड़ो ।
अस्तित्व बचाने तुम अपना, बैरी का मुख तोड़ो ।।

एक टिप्पणी भेजें