बुधवार, 4 मई 2016

श्रमिक

श्रम को पूजा सब कहे, पूजा करे न कोय ।
श्रम की पूजा होय जो, श्रमिक काहे रोय ।।
श्रमिक काहे रोय, मेहनत दिन भर करके ।
भरे नहीं क्यों पेट, करे जब श्रम जीभर के ।
शोषण अत्याचार, कभी भी मिटे न यह क्रम ।
चिंता सारे छोड़, करे श्रमिक केवल श्रम ।।
एक टिप्पणी भेजें