बुधवार, 20 अप्रैल 2016

भजते तब तब राम

भौतिक सुख में  हो मगन, माना कब  भगवान ।
अब तक तुम कहते रहे, ईश्वर शिला समान ।
ईश्वर शिला समान, पूजते नाहक पाहन ।
घेरे तन को कष्ट, लगे करने अवगाहन ।।
औषध करे न काम, दुआ करते तब कौतिक ।
भजते तब तब राम, छोड़ सुख सारे भौतिक ।।

एक टिप्पणी भेजें