शनिवार, 2 अप्रैल 2016

भींज रहा मन तरबतर

अधर शांत खामोश है, नैन रहें हैं बोल ।
मन की तृष्णा लालसा, जा बैठे चषचोल ।। (चशचोल-पलक)

नैनों की भाषाा समझ, नैनों ने की बात ।
प्रेम पयोधर घुमड़ कर, किये प्रेम बरसात ।।

भींज रहा मन तरबतर, रोम रोम पर नेह ।
हृदय छोड़ मन बावरा, किये नैन को गेह ।।

भान देह का ना रहे, बोले जब जब नैन ।
नैन नैन में गुॅथ गया, पलक न बोले बैन ।।

खड़ी हुई हे बूत सी, हांड मांस का देह ।
नयन चुराये नयन को, लिये नयन पर नेह ।।

एक टिप्पणी भेजें