रविवार, 27 मार्च 2016

सत्य को ग्रहण लगा है

कितने झूठे लोग हैं, झूठ रहे इठलाय ।
न्याय खोजता सत्य को, सत्य कौन बतलाय ।
सत्य कौन बतलाय, सत्य को ग्रहण लगा है ।
आंखे पट्टी बांध, न्याय भी आज ठगा है ।
एक चांद ही सत्य, झूठ तो तारे जितने ।
धनी बली है मुक्त, बंद निर्धन हैं कितने ।
एक टिप्पणी भेजें