शनिवार, 26 मार्च 2016

इंसा सारे सोय हैं

सैनिक सीमा पर खड़े, देखे अपना देश ।
भीतर भी दुश्मन अड़ा, धर भाई का वेष ।।

कोयल कागा साथ में, बैठे हैं इक डाल ।
काग शिकारी से मिला, कोयल है बेहाल ।।

पाले खतपतवार को, छोड़ फसल की मोह ।
खेत बचे ना जब यहां, तब करना तुम द्रोह ।।

बाजे है थोथा चना, घना बाजरा मौन ।
पुलिस चोर के साथ है, हमें बचावे कौन ।।

जाग रहे उल्लू यहां, उड़ उड़ कर हर डाल ।
इंसा सारे सोय हैं, सुध खोये बेहाल ।।

दुश्मन के रखवार है, लोकतंत्र का तंत्र ।
खुले आम ललकार के, घूमे शत्रु स्वतंत्र ।।


एक टिप्पणी भेजें