रविवार, 21 फ़रवरी 2016

आरक्षण का भूत

सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक

संविधान की बात है, काहे का छुवाछूत
छुवाछूत अवरोध है, सब इंसा के पूत
पूत सभी इस देश के, कोई नही विशेष
विशेषता क्यों चाहिये, आरक्षण का भूत ।।

एक टिप्पणी भेजें