शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

//दोहा मुक्तक-अधीरता//


व्याकुल होकर मन मुकुर, ढूंढ़ रहा है प्यार ।
प्यार प्राण आधार है, इस बिन जग बेकार ।।
जग बेकार कहे सभी, जब मन होय अधीर ।
अधीरता ही पीर है, तजे इसे संसार ।।

एक टिप्पणी भेजें