शनिवार, 23 जनवरी 2016

करते क्यों तकरार

तन पाने के पूर्व ही. किये प्यार हो आप ।
अपने अनुरुप छांट कर. पाये हो माँ बाप ।।
फिर क्यों तुम यह मानते. पहले होवे प्यार ।
शादी के पहले भला. करते क्यों तकरार ।।
लडते रहते है सभी. बंधु बहन तो लाख ।
भागे ना घर छोड़ कर. देह किये ना खाख॥
सुनकर पति के बात क्यों. छोडे पति के द्वार ।
ससुरे आंगन छोड़ कर. बैठी वह मझदार ।
-रमेश चौहान
एक टिप्पणी भेजें