बुधवार, 23 दिसंबर 2015

भारत माॅं वीरों की धरा

भारत माॅं वीरों की धरा, जाने सकल जहान ।
मातृभूमि के लाड़ले, करते अर्पण प्राण ।
करते अर्पण प्राण, पुष्प सम शीश चढाये ।
बन शोला फौलाद, शत्रु दल पर चढ जाये।
पढ़ लो कहे ‘रमेश‘, देश में लिखे इबारत ।
इस धरती का नाम, पड़ा क्यों आखिर भारत ।।

-रमेश चौहान
एक टिप्पणी भेजें