मंगलवार, 13 अक्तूबर 2015

मां आदि भवानी है

हाइकू

एक पत्थर
भगवान हो गया
आस्था से रंगे ।

आशा विश्वास
श्रद्धा जगाये रखे
मिट्टी मूरत ।

मैं भक्त हूं
मां आदि भवानी है
सृष्टि रचक ।

मातु बिराजे
श्रद्धा के नवरात
कण-कण में ।

धर्म धारक
अधर्म विदारक
मातु भवानी ।

शक्ति दीजिये
जग में मानवता
अक्षुण रहे ।

-रमेश चौहान
एक टिप्पणी भेजें