गुरुवार, 18 जून 2015

योग दिवस पर दोहे

योग दिवस के राह से, खुला विश्व का द्वार ।
भारत गुरू था विश्व का, अब पुनः ले सम्हार ।।

 गौरव की यह बात है, गर्व करे हर कोय ।
 अपने ही इस देश में, विरोध काहे होय ।।

 अटल रहे निज धर्म में, दूजे का कर मान ।
 जीवन शैली योग है, कर लें सब सम्मान ।।

जिसकी जैसी चाह हो, करले अपना काम ।
पर हो कौमी एकता, रखें जरूर सब ध्यान ।।

एक टिप्पणी भेजें