शुक्रवार, 29 मई 2015

कान्हा तेरी बासुरी (दोहे)
















कान्हा मुख पर बासुरी, बोल रही सब राग ।
चेतन की क्या बात है, जड़ में है अनुराग ।।

कान्हा तेरी बासुरी, जादू क्यों फैलाय ।
सुध-बुध अब खुद की नही, नही मुझेे कुछ भाय ।।

कदम डाल तो झूमते, यमुना जल बलखाय ।
नाच रही है धूल कण, कान्हा पद परघाय ।।

पुष्प डाल तब नाचती, अपना राग मिलाय ।
घाट-बाट सब तड़प  कर, कान्हा निकट बुलाय ।।

एक टिप्पणी भेजें