बुधवार, 15 अप्रैल 2015

कुन्डलिया छन्द (विषय- बेरोजगारी)


पढ़े-लिखे युवती युवक, ढूंढ रहें हैं काम ।
पढ़ लिख कर सब चाहते, लेना इसका दाम ।।
लेना इसका दाम, किये हैं व्यय अतिभारी ।
अभियंता की चाह, दिखाते अब लाचारी ।।
बनने तक को प्यून, पंक्ति में तैयार दिखे ।
बनने को सर्वेंट, सभी ये हैं पढ़े-लिखे ।।
-रमेश चौहान
एक टिप्पणी भेजें