शनिवार, 31 जनवरी 2015

सुसुप्त वह स्वाभिमान (अतुकांत)

अतुकांत

हाथ में कटोरा हो ना हो,
भीख मांग रहे सभी,
कोई मंदिर मस्जिद द्वारे बैठ
कोई घर-घर दे दस्तक
कोई स्टेशन में हाथ फैलाय
कोई सरकार से छाती ठोक
मुफ्त बिजली पानी
मुफ्त राशन
मांगे खुद को गरीब कह कह
धनवान भी मांग रहे
छूट छूट
आयकर से छूट
इस कर से छूट, उस कर से छूट
मेहनती किसान भी
मांग रहे
सब्सीड़ी में खाद
सब्सीड़ी में कृषि औजार
गांव-गांव
गरीबी रेखा के नीचे
जीवन यापन करने वालो
 की भरमार ।
दानी है वर दानी है
केवल नेता
बांट रहे
वादे वादे वादे
मुफ्तखोर इंसान बनाने
रग-रग में मुफ्तखोरी जगाने
मुफ्त में दारू
मुफ्त में कपड़ा
मुफ्त में ........
मुफ्त में ........
मुफ्त में ........
कौन कहें
भीख नही अधिकार चाहिये
चाहिये हर हाथों में काम
कौन जगाये हमसब में
सुसुप्त वह स्वाभिमान ।।

-रमेश चौहान

गुरुवार, 29 जनवरी 2015

बढ़े चलो (दोहे)

सम्हल कर चल तू जरा, अपनो से है बैर ।
द्वेष राग मन में भरा, कौन मनावें खैर ।।

तन्हा आया है जहां, साथी है संसार ।
अपनी यात्रा पूर्ण कर, जाना तन्हा यार ।

बढ़े चलो निज राह पर, हिम्मत भरकर बाॅंह ।
तेज धूप को देख कर, ढूंढ़ों मत जी छाॅह ।।

आप और मैं एक है, ना चाकर ना कंत ।
बहरा बनकर तू सुने, आॅंख मूंद मैं संत ।।

जन गण मन की गान से, गुंज रही आकाश ।
राष्ट्र ध्वज गणतंत्र पर, देते नव विश्वास ।।

राष्ट्र प्रेम उल्लास से, झूमे सारा देष ।
पावन इस गणतंत्र पर, भुल कर अपने क्लेष ।।



रविवार, 4 जनवरी 2015

अकेले ही खड़ा हूं

मैं चौक गया
आईना देखकर
परख कर
अपनी परछाई
मुख में झुर्री
काली काली रेखाएं
आंखों के नीचे
पिचका हुआ गाल
हाल बेहाल
सिकुड़ी हुई त्वचा
कांप उठा मैं
नही नही मैं नही
झूठा आईना
है मेरे पिछे कौन
सोचकर मैं
पलट कर देखा
चौक गया मैं
अकेले ही खड़ा हूं
काल ग्रास होकर ।

सिपाही (मत्तगयंद सवैया)

प्राण निछावर को तुम तत्पर,
भारत के प्रिय वीर सिपाही।
दुश्मन को ललकार अड़े तुम
अंदर बाहर छोड़ कुताही ।।
सर्द निशा अरू धूप सहे तुम,
देश अखण्ड़ सवारन चाही ।
मस्तक उन्नत देश किये तब,
मंगल जीवन लोग निभाही ।।