मंगलवार, 23 दिसंबर 2014

प्रीत के दोहे

मेहंदी तेरे नाम की, रचा रखी है हाथ ।
जीना मरना है मुझे, अब तो तेरे साथ ।।

रूठी हुई थी भाग्य जो, मोल लिया जब शूल ।
तेरे कारण जगत को, मैंने समझी धूल ।।

तेरी मीठी बात से, हृदय गई मैं हार ।
तेरी निश्चल प्रीत पर, तन मन जाऊॅ वार ।।

देखा जब से मैं तुझे, सुध बुध गई विसार ।
मीरा बन मैं श्याम पर, सब कुछ किया निसार ।।

खोले सारे भेद को, मेरे दोनों नैन ।
नही नुपुर भी मौन है, बोले मीठी बैन ।।
एक टिप्पणी भेजें