रविवार, 14 दिसंबर 2014

छोड़ो झगड़ा नाम का

छोड़ो झगड़ा नाम का, ईश्वर अल्ला एक ।
खुदा की खुदाई भली, प्रभु की प्रभुता नेक ।।

धर्म धरे विश्वास से, सभी धर्म है नेक ।
कट्टरता के शूल से, मानव पथ ना छेक ।।

मानवता के राह चल, आप मनुष्य  महान ।
दीन हीन को साथ ले, गढ़ लें रम्य जहान ।।

दीन हीन सब तृप्त हो, सुख मय हो दिन रैन ।
भेद भाव अब खत्म हो, मिले सभी को चैन ।।

अपनी सेवा आप कर, निज रूप को पहचान ।
कहते फिरते क्यो भला, कण कण में भगवान ।।



एक टिप्पणी भेजें