गुरुवार, 13 नवंबर 2014

द्वारिका पुरी सुहानी रे भैया

द्वारिका पुरी सुहानी रे भैया
नही कोई इसका सानी है ।
बांके बिहारी तो यहां है रहते-2
जहां उसकी राजधानी है ।।

सागर श्याम को जगह है दीन्हो
विश्वकर्मा ने यह रचना है कीन्हो
कान्हा अपना वास जहां है लीन्हो
वसे है जहां उसके पटरानी रे भैया
नही कोई इसका सानी है ।

ऊंचे ऊंचे जहां महल अटारी
रथ घोड़े का अद्भूत सवारी
देखे भौचक्क सुदामा संगवारी
आंख भर आये हैं पानी रे भैया
नही कोई इसका सानी है ।

मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

ग्वाला रे गोकुल के
हाहा हाहा हाहा
गोकुल के ग्वाला, गोकुल के ग्वाला
छेड़े है मुख लगाये घोले रे हाला मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

किशोरी रे बृज के
हाहा हाहा हाहा
बृज के राधा, बृज के राधा
फंस गई ओ तो प्रेम के व्याधा रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

राधा  रे श्याम के
हाहा हाहा हाहा
 ष्याम के दिवानी, श्याम के दिवानी
सुध बुध भुले सुन तान सुहानी रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

धेनु रे गोकुल के
हाहा हाहा हाहा
गोकुल धेनु, गोकुल के धेनु
ग्रास छोड़ धाये सुने जब वेणु रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

डाली रे कदम के
हाहा हाहा हाहा
कदम के डाली, कदम के डाली
आसन  बन कान्हा के नाचे रे मतवाली मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

गोपी रे गोकुल के
हाहा हाहा हाहा
गोकुल के गोपी, गोकुल के गोपी
बेसुध भई जल गागर रोकी रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से
मुरली से कोई बाचे न बचे रे मुरली से

रविवार, 9 नवंबर 2014

बड़ा तंग किना (भजन)

ओ मईयाजी ........
बड़ा तंग किन्हा
तेरे किसन ने बड़ा तंग किना -2
दूध दही चुराये, संग साथी बुलाये,
घर घुस चढ़ जावे ये जिना
बड़ा तंग किन्हा
तेरे किसन ने बड़ा तंग किना
ओ मईयाजी ........
बड़ा तंग किन्हा


ओ ग्वाला है हम ग्वालिन हैं-2
ओ बगिया है हम मालिन हैं
तेरे घर में माखन, खूब होगी मगर
उसने मेरा माखन छिना
बड़ा तंग किना 2

तेरे किसन ने बड़ा तंग किना
बड़ा तंग किना

हमारी सीका, हमारे मटके
ले हाथ उठा, उसे ओ पटके
खुद ना खाये, संग साथी खिलाये,
देख जहर का घूट पड़ा पीना

देख कर हमें, भागे ओ छलिया
कदम तल जा, छेड़े मुरलिया
सुन वेणु धुन, हम सुध बुध बिसराये
मुष्किल हुआ अब जीना

हम बावरी, ओ निरमोही
हम संग करे, ओ बरजोरी
उनके षरारत, हमसब को भी भाये
कैसे कहे हमें दुख दीना

शुक्रवार, 7 नवंबर 2014

नेताजी की महिमा गाथा (आल्हा)

नेताजी की महिमा गाथा, लोग भजन जैसे है गाय ।
लोकतंत्र के नायक वह तो, भाव रंग रंग के दिखाय ।।

नटनागर के माया जैसे, इनके माया समझ न आय ।
पल में तोला पल में मासा, कैसे कैसे रूप बनाय ।।

कभी कभी जनता संग खड़े, जन जन के मसीहा कहाय ।
मुफ्त बांटते राशन पानी, लेपटाप बिजली भरमाय ।

कभी मंहगाई पैदा कर, दीन दुखीयों को तड़पाय ।
बांट बेरोजगारी भत्ता, युवा शक्ति को ही भटकाय ।।

भस्मासुर बन करे तपस्या, जनता पर निज ध्यान लगाय ।
भांति भांति से करते पूजा, वह जनता को देव बनाय ।।

जनता जर्नादन बन भोले, उनको शासन डोर थमाय ।
सत्ता बल पाकर हाथों में, भोले जन को ही दौड़ाय ।

गली गली भाग रही जनता, अपने तो निज प्राण बचायं।
भाग्य विधाता जनता जिनके, नेताजी अब भाग्य बनाय ।

काम चाहिये हर हाथों में, अपनी एक नई पहचान ।
हाथ कटोरा देते क्यों हो, हमें चाहिये निज सम्मान ।।

जात पात में बाट बाट कर, खेलो मत शकुनी का खेल ।
हम सब पहले भारत वंशी, हर मजहब में रखते मेल ।।

छद्म संप्रदायवाद बुनकर, रचे महाभारत क्यों और ।
जग उपदेशक भारत अपना, कृष्ण बुद्ध गांधी का ठौर ।।

जनता जर्नादन भी सुन लो, सभी दोष नेता का नाय ।
हृदय हाथ रखकर सोचो तुम, नेता तुम को क्यो भरमाय ।।

जमीर खो गया कहां जग में, लोभ स्वार्थ का लेप लगाय ।
फोकट में पाने को कैसे, नेता के चम्मच बन आय ।।

सोमवार, 3 नवंबर 2014

कर्तव्य क्या है ?

कर्तव्य क्या है ?
कोई नही जानते
 ऐसा नही है
 कोई नही चाहते
 कांटो पर चलना ।

     स्वार्थ के पर
    एक मानव अंग
    मानवीकृत
    मांगते अधिकार
    कर्तव्य भूल कर ।

लड़े लड़ाई
 अधिकारों के लिये
 अच्छी  बात है
 रखें याद यह भी
 कुछ कर्तव्य भी हैं ।

    जो चाहते हैं
    कर्तव्य परायण
    सेवक पुत्र
    वह स्वयं कहां है
    कर्तव्य परायण

रविवार, 2 नवंबर 2014

काले धन का हल्ला

छन्न पकैया छन्न पकैया, काले धन का हल्ला ।
चोरों के सरदारों ने जो, भरा स्वीस का गल्ला ।।

छन्न पकैया छन्न पकैया, कौन जीत अब लाये ।
चोर चोर मौसेरे भाई, किसको चोर बताये ।।

छन्न पकैया छन्न पकैया, सपना बहुत दिखाये ।
दिन आयेंगे अच्छे कह कह, हमको तो भरमाये ।।

छन्न पकैया छन्न पकैया, धन का लालच छोड़ो ।
होते चार बाट चोरी धन, इससे मुख तुम मोड़ो ।।

छन्न पकैया छन्न पकैया, काले गोरे परखो ।
कालों को दो काला पानी, बात बना मत टरको ।।  टरकना-मौका से हटना
....................................
मौलिक अप्रकाशित