बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

दीप पर्व है

     दीप पर्व है
    अज्ञानता को मेटो
    ज्ञान दीप ले
    मानवता को देखो
    प्रेम ही प्रेम भरा

     नन्हे दीपक
    अंधियारा हरते
    राह दिखाते
    स्वयं अंधेरे बैठे
    घमंड छोड़ कर

    सुख समृद्धि
    घर भरा पूरा हो
    मन में शांति
    दीपक का प्रकाश
    प्रकाशित अचल
एक टिप्पणी भेजें