रविवार, 26 अक्तूबर 2014

कुछ दोहे

एक दीप तुम द्वार पर, रख आये हो आज ।
अंतस अंधेरा भरा, समझ न आया काज ।।

आज खुशी का पर्व है, मेटो मन संताप ।
अगर खुशी दे ना सको, देते क्यों परिताप ।।

पग पग पीडि़त लोग हैं, निर्धन अरू धनवान ।
पीड़ा मन की छोभ है, मानव का परिधान ।।

काम सीख देना सहज, करना क्या आसान ।
लोग सभी हैं जानते, धरे नही हैं ध्यान ।।

मन के हारे हार है, मन से तू मत हार ।
काया मन की दास है, करे नही प्रतिकार ।।

बात ज्ञान की है बड़ी, कैसे दे अंजाम ।
काया अति सुकुमार है, कौन करेगा काम ।।

नुख्श खोजते क्यों भला, ज्ञानी पंडित लोग ।
अपनी गलती भूल कर, जग में करते खोज ।।

बुधवार, 22 अक्तूबर 2014

दीप पर्व है

     दीप पर्व है
    अज्ञानता को मेटो
    ज्ञान दीप ले
    मानवता को देखो
    प्रेम ही प्रेम भरा

     नन्हे दीपक
    अंधियारा हरते
    राह दिखाते
    स्वयं अंधेरे बैठे
    घमंड छोड़ कर

    सुख समृद्धि
    घर भरा पूरा हो
    मन में शांति
    दीपक का प्रकाश
    प्रकाशित अचल

मंगलवार, 21 अक्तूबर 2014

भारतीय रेल

रेल के रेलम पेल में, जल्दबाजी के खेल में, छत पर चढ़ रहे, देखो नर नारीयां ।
जान जोखिम में डाल, गोद में बच्चे सम्हाल, दिखा रहें हैं वीरता, दक्ष सवारीयां ।।
अबला सबला भई, दुर्गावती लक्ष्मी बन, लांघ रही वह बोगी, छत में ठौर पाने ।
कौन इन्हें समझायें, जीवन मोल बतायें, क्यों करते नादानी, रेल के दीवाने ।।

रेल-रेल भारतीय रेल, रेल है ऐसा जिसके़, अंदर को कौन कहे, छत भी गुलजार है ।
बेटिकट बेखटका, रेलवे को दे झटका, कह रहे छाती ठोक, रेलवे बीमार है ।।
भारतीय रेल पर, टिकटों के खेल पर, दलाल मालामाल है, जनता लाचार है ।
फस्ट सेकण्ड स्वीपर, ए.सी. के अनुपात में, लगें हैं जनरल का, और दरकार है ।।

यहां-वहां जहां-तहां, देख सको जहां जहां, देखो तुम वहां वहां, समस्या ही खड़ा है ।
हर कोई जानता है, नही कोई मानता है, समस्या पैदा करने, आदमी ही अड़ा है ।।
समस्या को बुनते है, समस्या से जुझते है, समस्या में रहते हैं, लोग बन समस्या ।
उलझन को जो हेरे, उलझन का दास है, दास को सुलझाना, खुद एक समस्या ।।

नित्य-नित्य पखारते, चरण वतन के

मां भारती के शान को, अस्मिता स्वाभिमान को,
अक्षुण सदा रखते, सिपाही कलम के ।
सीमा पर छाती तान, हथेली में रखे प्राण,
चौकस हो सदा डटे, प्रहरी वतन के ।
चांद पग धर कर, माॅस यान भेज कर,
जय हिन्द गान लिखे, विज्ञानी वतन के ।
खेल के मैदान पर, राष्ट्र ध्वज धर कर,
लहराये नभ पर, खिलाड़ी वतन के ।

हाथ कूदाल लिये, श्रम-स्वेद भाल लिये,
श्रम के गीत गा रहे, श्रमिक वतन के ।
कंधो पर हल धर, मन में उमंग भर,
अन्न-धन्न पैदा करे, कृषक वतन के ।
व्यपारी बड़े काम के, निपुण साम दाम के,
उन्नत करते माथा, उद्यमी वतन के ।
खास आम लोग सब, राष्ट्र प्रेम उर धर,
नित्य-नित्य पखारते, चरण वतन के ।

शनिवार, 11 अक्तूबर 2014

फैंशन के चक्कर में (घनाक्षरी छंद)

फैंशन के चक्कर में, पश्चिम के टक्कर में
भूले निज संस्कारों को, हिन्द नर नारियां ।
अश्लील गीत गान को, नंगाय परिधान को
शर्म हया के देश में, मिलती क्यों तालियां ।
भाई कहके नंगों को, दादा कह लफंगो को,
रक्त जनित संबंधो को, दे रहे क्यों गालियां ।
दुआ-सलाम छोड़ के, राम से नाता तोड़ के
हाय हैलो बोल-बोल, हिलाते हथेलियां ।

हया रखे ताक पर, तंग वस्त्र धार कर,
लोकलाज कुरेदतीं, आज की लड़कियां ।
नुपूर के छन-छन, कंगना के खन-खन,
नवयुवतियों को देती, मानो कोई गालियां ।
साडि़यां षरमाती है, घाघरा घबराती है,
सामने हो जब कोई, आज की लड़कियां ।
छोड़ सखी सहेली को, नारीत्व के पहेली को
लड़को को मित्र बनाती, आज की लड़कियां ।

बुधवार, 1 अक्तूबर 2014

जग की यह माया

आत्मा अमर
शरीर छोड़कर
घट अंदर
तड़पती रहती
ऊहा पोह मे
इच्छा शक्ति के तले
असीम आस
क्या करे क्या ना करे
नन्ही सी आत्मा
भटकाता रहता
मन बावला
प्रपंच फंसकर
जग ढूंढता
सुख चैन का निंद
जगजाहिर
मन आत्मा की बैर
घुन सा पीसे
पंच तत्व की काया
जग की यह माया