मंगलवार, 30 सितंबर 2014

गांव के पुरवासी

बेटवा सुन
गांव देखा है कभी
दादी पूछते
नही दादी नही तो
किताब पढ़
जाना है मैं गांव को
भारत देश
किसानों का देश है
कृषि प्रधान
गांवो में बसते हैं
किसान लोग
मवेशियों के साथ
खेती करते
हां  बेटा हां
गांव किसानों का है
थोड़ा जुदा है
तेरे किताबों से रे
अपना गांव
गांव की शरारत
अल्हड़ प्यार
लोगों के नाते रिश्ते
खुली बयार
खुला खुला आसमा
खुली धरती
तलाब के किनारे
आम के छांव
लगे बच्चों का डेरा
खेल खेल में
खिलते बचपन
सखी सहेली
पक्षी बन चहके
गली आंगन
पुष्प बन महके
मुर्गे की बांग सुन
छोड़ बिछौना
जागे हैं नर नारी
नीम की डाल
दातून को चबाते
काली मिट्टी को
बदन में लगाते
खुले में नीर
मल मल नहाते
खेती का काम
लोग करे तमाम
माटी की सेवा
श्रद्धा के साथ करे
छेड़े हैं गीत
खेत खलिहानों में
अन्न की दाना
जगत को बांटते
प्रेम के साथ
स्नेह पुष्प खिलाते
एक दूजे के
सुख दुख के साथी
गांव के पुरवासी ।

शुक्रवार, 26 सितंबर 2014

सोचें जरा (तांका)

1.     शरम हया
    लड़की का श्रृंगार
    लड़को का क्या
    लोक मर्यादा नोचे
    इसको कौन  सोचे ।

2.    नर नारी का
    समता वाजिब है
    रसोई घर
    चैका करे पुरूष
    दफ्तर नारी साजे ।

3.    सोचें हैं कभी
    रूपहले पर्दे में
    नग्नतावाद
    कैसे पसारे पांव
    मूक दर्शक आप ।

4.    कम कपड़े
    कोई क्यो पहनते
    हवा खाना हो
    नंगे होकर बैठें
    पागल के समान ।

5.    खुली चुनौती
    वासना को देते
    खुले बदन
    बजा रहें हैं ढोल
    मर्यादा साधे मौन ।

-रमेशकुमार सिंह चौहान

करना है आराम (चोका)

ढलती शाम
दिन का अवसान
देती विराम
भागम भाग भरी
दिनचर्या को
आमंत्रण दे रही
चिरशांति को
निःशब्द अव्यक्त
बाहें फैलाय
आंचल में ढक्कने
निंद में लोग
होकर मदहोश
देखे सपने
दिन के घटनाएं
चलचित्र सा
पल पल बदले
रोते हॅसते
कुछ भले व बुरे
वांछित अवांछित
आधे अधूरे
नयनों के सपने
हुई सुबह
फिर भागम भाग
अंधड़ दौड़
जीवन का अस्तित्व
आखीर क्या है
मृत्यु के शैय्या पर
सोच रहा मानव
गुजर गया
जीवन एक दिन
आ गई शाम
करना है आराम
शरीर छोड़ कर ।

-रमेशकुमार सिंह चौहान

बुधवार, 24 सितंबर 2014

एक सौ एक हाइकू

1.    हे गजानन
    कलम के देवता
    रखना लाज ।

2.    ज्ञान दायनी
    हर लीजिये तम
    अज्ञान मेट ।

3.    आजादी पर्व
    धर्म धर्म का पर्व
    देश  का गर्व.   

4.    पाले सपना ?
    आजादी के सिपाही
    मिले आजादी ?

5.    स्वतंत्र तंत्र
    विचार परतंत्र
    देश स्वतंत्र ?

6.    कहां है खादी ?
    कैसे भरे संस्कार ?
    गांधी विचार ।
   
7.    मानव कढ़े
    हर चेहरा पढ़े
    विकास गढ़े ।
   

8.    राजनीतिज्ञ,
    कुशल अभिनेता,
    मूक दर्शक।

9.    कुटनीतिज्ञ
    कुशल राजनेता
    मित्र ही शत्रु ।

10.    शकुनी नेता
    लोकतंत्र चैसर
    बिसात लोग

11.    लोकराज है
    लोभ मोह में लोग
    क्यो करे शोक

12.    अपनत्व है ?
    देश से सरोकार ?
    सब बेकार ।

13.    धड़क रही
    दिल की धड़कन,
    तेरे प्यार में ।

14.    हे अनुराग,
    प्रेम एक पूजा है,
    स्वच्छ निर्मल ।

15.    श्वास प्रश्वास
    अधर पर नाम
    स्नेही साजन ।

16.    प्रीत की रीत,
    जल मरे पतंगा
    सुधा पीकर ।

17.    चांद विहिन
    पूर्णमासी का रात,
    तू मेरी चांद ।

18.    तेरे बीना मै,
    तेल बीन दीपक,
    वजूदहीन ।

19.    मन की साथी,
    चिडि़या हो चहको,
    खुला आंगन ।

20.    सारे जहां में
    भारत यशगान
    गीत बन गया ।

21.    आतंकवाद
    गर्दन रेत कर,
    करे संवाद ।

22.    घोसले जैसे
    बनते बिखरते
    क्यों परिवार ?

23.    सात जन्मो का,
    मान्यता स्वीकारे जो
    तलाक मांगे ।

24.    काम व पैसा,
    तेरा सब कुछ है,
    ईश्वर नही ।

25.    ईश्वर सदा,
    कण कण बसता,
    हवा स्वास सा ।

26.    संस्कारी बन,
    संस्कृति संवाहक,
     भारतवासी ।

27.    अनुभव से,
    ता उम्र सीखा जीना,
    पेड़ समान ।

28.    मुझसे प्यार,
    कोई करे न करे,
    मैं तो करूंगा ।

29.    गोताखोर मै,
    दिल की गइराई
    समुद्र तल ।

30.    ढूंढ रहा मै
    अनंत गहराई
    कहां समाई ?

31.    सादा जीवन,
    मर्यादित पिंजरा,
    कैद सज्जन ।

32.    लक्ष्मण रेखा,
    लांघ सके है कौन,
    दैत्य रावन । 

33.    जीवन है क्या ?
    मन का यक्ष प्रश्न
    सुख या दुख ।

34.    मनबावला
    पथ भूला राही है,
    जग भवर ।
       
35.    देख दुनिया,
    जीने का मन नही,
    स्वार्थ के नाते ।

36.    मन भरा है,
    ऐसी मिली सौगात,
    बेवाफाई का ।

37.    वाह रे धोखा,
    अपने ही पराये,
    मित्र ही शत्रु ।

38.    तू भी पूता है ?
    मित्रता के रंग में,
    कहां है जुदा ?

39.    क्यों रोता है ?
    सिक्के के दो पहलू
    होगी सुबह ।

40.      प्रेम की रीत,
    हार में ही है जीत,
    हारना सीख ।

41.    प्रेम क्या है ?
    भावों का समर्पण
    स्वप्रस्फूटित ।

42.    वियोग क्या ?
    प्रेम की गहराई
    तैराक मन ।

43.    हे भगवान,
    प्रेम का भूखा तू भी,
    प्रेम ही पूजा ।

44.    मीड डे मील,
    बच्चे हैं बुद्धिहिन,
    कैसी योजना ।

45.    ये शिक्षानिति
    हमारी पाठशाला,
    प्रयोग शाला ।

46.    मीड डे मील,
    मौत के सौदागर
    मासूम बच्चे ।

47.    हे मुफ्तखोर
    भ्रष्टाचारी मानव,
    निज मान है ?

48.    झूमा सावन,
    आसुओं की है झड़ी
    प्रतिक्षा शेष ।

49.    फैला प्रकाश
    चमकती बिजली
    मन उदास

50.    बरसे मेघ
    टपकता छप्पर
    गरीब घर

51.    बाढ़ का पीर
    सड़को पर नीर
    बेबस जन

52.    बद्री केदार,
    हिमालय प्रकोप
    आस्था का मारा

53.    विष्णु सा वह,
    ब्रह्मा महेश वह,
     गुरू जो वह

54.    स्वर्ग का पथ
    चरित्र व्यवहार
    निर्माता गुरू

55.    एक चेहरा
    जाना पहचाना सा
    अनजाना है ।

56.    सुनता कोई,
    गुनगुनाता है कोई
    मैं तो मौन हूं ।
57.    सुस्त रूपया
    लुड़कता बाजार
    देश बेहाल ।

58.    सीमा की सीमा
    खो रही पहचान
    चीन शैतान ।

59.    सावन लाये
    रिमझिम फुहार
    दिल बीमार

60.    बदली छाई
    धरती मुस्कुराई
    प्यास  बुझाई

61.    खेती का काम
    करते हैं किसान
    पालनकर्ता ।

62.    दोस्त रूठा है
    करूं क्या जतन मैं
    कोई बताये ।

63.    भ्रष्ट प्रत्याशी
    लालची मतदाता,
    लोकतंत्र है ?

64.    पढ़े लिखे हो ?
    डाले हो कभी वोट ?
    क्यो देते दोष ??

65.    देख लो भाई,
    कौन नेता  चिटर ?
    तुम वोटर ।

66.    अमीट स्याही
    खामोश रहकर
    करते चोट ।

67.    क्यों मानते हो ?
    ये देश तुम्हारा है ?
    मौन क्यों भाई ??

68.    सुन रे आली,
    मैं बाग का हूं माली,
    सजाओ थाली ।

69.    ढूंढते हुये
    भ्रष्टाचार का पथ
    खुद खो गया ।

70.    हम आजाद
    वे सभी कह रहे
    मर्यादाहीन

71.    स्वतंत्र देश
    परतंत्र शसक
    ये कैसा नाता ?

72.    तन कैद में
    मन आजाद रखे
    मेरे शहीद ।

73.    देख तमाशा
    नेता मांगते भीख
    लोकतंत्र है ।

74.    जांच परख
    आंखो देखी गवाह
    तुम्ही हो जज ।

75.    खोलता वह
    आश्वासनों का बाक्स
    सम्हलो जरा ।

76.    कागजी फूल
    चढ़ावा लाया वह
    हे जन देव ।

77.    मदिरा स्नान
    गहरा षडयंत्र
    बेसुध लोग ।

78.    चुनोगे कैसे ?
    लड़खड़ाते पांव
    ड़ोलते हाथ ?

79.    होश में ज्ञानी
    घर बैठे अज्ञानी
    निर्लिप्त भाव ।

80.    जड़ भरत
    देश के बुद्धिजीवी
    करे संताप ।
   
81    वह आदमी
    बकबक कर रहा
    मदहोश हो ।

82.    टूटता घर,
    अपना परिवार,
    स्नेह दुलार ।

83.    रूठे अपने,
    टूट रहे सपने,
    ढूंढे छुपने ।

84.    कहीं दिखे है ?
    एकसाथ हैं भाई ?
    दुलार करें ।
85.    संस्कार लुप्त,
    परम्परा सुसुप्त
    कौन है तृप्त ?

86.    संस्कार क्या है ?
    कौन नही जानता ?
    कौन मानता ??

87.    नवाचारीय,
    कैसे बनी कुरीति ?
    अपनी रीति ।

88.    मान सम्मान,
    परम्परा का पालन
    मनभावन ।

89.    आत्म सम्मान
    प्राणों से बढ़कर
    बचा लो तुम ।

90.    हिन्द की हिन्दी
    जन मन की जुबा
    होगी की नही ?

91.    बुरा नही है
    ज्ञान जो हम जाने
    इस जग का ।

92.    देश की चिंता
    हमें भी हैं करना
    बन सपूत ।

93.    बने विजेता
    निज मन जो जीते
    विश्व विजेता ।

94.    काशी जो छाये
    शरद ऋतु आये
    प्रेम जगाये ।

95.    जान लो मुझे
    तेरे ही घटवासी
    मै अविनाशी ।

96.    नन्हा बालक
    भगवान समान
    स्वच्छ निर्मल ।

97.    धूप छांव सा
    जीवन बगिया में
    सुख दुख है ।

98.    झोंको के साथ
    झूमके नन्हा पौधा
    खड़ा रहता ।

99.    छोड़ मां बाप
    मनाये बद्रीनाथ
    पूत आज के ।

100.    लोक मर्यादा
    परिधान समान
    सज्जन ओढ़े ।

101.    अनुशासन
    कोई रोके न टोके
    निज अंकुश

बुधवार, 17 सितंबर 2014

सत्यमेव जयते (छप्पय छंद)

सत्य नाम साहेब, शिष्य कबीर के कहते ।
राम नाम है सत्य, अंत पल तो हम जपते ।।
करें सत्य की खोज, आत्म चिंतन आप करें ।
अन्वेषण से प्राप्त, सत्य को ही आप वरें ।।
शाश्वत है सत्य नष्वर जग, सत्य प्रलय में षेश है ।
सत्यमेव  जयते सृश्टि में, शंका ना लवलेष है ।।

असत्य बन कर मेघ, सत्य रवि ढकना चाहे ।
कुछ पल को भर दंभ, नाच ले वह मनचाहे ।।
मिलकर राहू केतु, चंद्र रवि को कब तक घेरे ।
चाहे हो कुछ देर, अंत जीते सत तेरे ।।
सत्य सत्य ही तो सत्य है, सत बल सृष्टि विशेषहै ।
सत्यमेव  जयते सृशष्टि में, शंका ना लवलेश है ।।

पट्टी बांधे आंख, ढूंढ़ते सत को मग में ।
अंधेरे का साथ, निभाते फिरते जग में ।।
उठा रहे हैं प्रश्न, कौन सच का साथी है ।
कहां जगत में आज, एक भी सत्यवादी है ।।
सत्यवादी तो खुद आप है, तुम में जो सच शेष है ।
सत्यमेव  जयते सृष्टि में, शंका ना लवलेश है ।।