शनिवार, 24 मई 2014

गजल


तेरे होने का मतलब चूडियाॅं समझती हैं
आंख में चमक क्यों हैं पुतलियाॅं समझती है

ये बदन का इठलाना और मन का मिचलाना
गूंथे हुये गजरों की बालियाॅं समझती है

हो तुम्ही तो मेरे श्रृंगार की वजह सारे
इस वजूदगी को हर इंद्रियाॅं  समझती है

श्वास तेरे मेरे जो एक हो गये उस पल
एहसास को तो ये झपकियाॅं समझती है

साथ देना तुम पूरे उम्र भर वफादारी से
बेवफाई को कातिल  सिसकियाॅं  समझती है
............................................
-रमेश कुमार चाैहान

रविवार, 4 मई 2014

जरा मुस्कुराकर

नेताजी से एक बार,
पूछ लिया एक पत्रकार ।
हे महानुभाव
तुम्हारे जीतने के क्या हैं राज ?
जनता जर्नादन है
मैं उनका पुजारी
नेताजी कहे सीर झुका कर ।
जलाभिशेक करता
कई बोतल लाल पानी चढ़ाकर ।
भांति भांति के भेट
मैं अपने देव चढ़ाता
अपनी मनोकामना
उनसे कह कह कर ।
हरे हरे फूल पत्र
दानपेटी डालता
उनके डेहरी पर
अपना सीर झुका कर।
पत्रकार से
नेताजी कहे
जरा मुस्कुराकर ।।
.................
-रमेश

शुक्रवार, 2 मई 2014

गजल- यारब जुदा ये तुझ से जमाना तो है नही

यारब जुदा ये तुझसे जमाना तो है नही
क्यों फिर भी कहते तेरा ठिकाना तो है नही

कण कण वजूद है तो तुम्हारा सभी कहे
माने भी ऐसा कोई सयाना तो है नही

सुख में भुला पुकारे तुझे दुख मे आदमी
नायाब  उनका कोई बहाना तो है नही

भटके रहे जो माया के पीछे यहीं कहीं
कोई भला खुदा का दिवाना तो है नही

लगता मुझे तो खुद का इबादत ही    ढोंग सा
अपना भी कोई खास    निशाना तो    है नही  

मतपेटी तो बोलेगी , आज मेरे देश में

झूठ और फरेब से, सजाये दुकानदारी ।
व्यपारी बने हैं नेता,  आज मेरे देश में ।।
वादों के वो डाले दाने, जाल कैसे बिछायें है ।
शिकारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
जात पात धरम के, दांव सभी लगायें हैं ।
जुवारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
तल्ख जुबान उनके, काट रही समाज को ।
कटारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।

दामन वो फैलाकर, घर घर तो घूम रहे ।
भिखारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
मंदिर मस्जिद द्वार,  वह माथा टेक रहे ।
पुजारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
मनोहारी करतब, वो तो अब दिखा रहे ।
मदारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।
दंगो के बुझे आग को, फिर वो सुलगा रहे ।
चिंगारी बने हैं नेता, आज मेरे देश में ।।

यक्ष प्रश्न पूछे सभी, युघिष्ठिर नही कोई ।
प्रश्नों के सैलाब बहे, आज मेरे देश में ।।
अपना चेहरा कोई, देख सके भला कैसे ।
धृतराष्ट्र सम नेता, आज मेरे देश में ।।
राजसिंहासन पर, हक अपना अपना ।
जता रहे दल सभी, आज मेरे देश में ।।
शोर करे नेता अभी, जनता साधे मौन है ।
मतपेटी तो बोलेगी , आज मेरे देश में ।।