रविवार, 20 अप्रैल 2014

कहमुकरिया


1.निकट नही पर दूर कहां है ?
उनके नयन सारा जहां है ।
पलक झपकते करते कमाल
क्या सखि साजन ?
न अंतरजाल ।।
2.मित्र न कोई उनसे बढ़कर  ।
प्रेम भाव रखे हृदय तल पर ।।
सीधे दिल पर देते दस्तक ।
क्या सखि साजन ?
ना सखि पुस्तक ।।
3.हाथ धर उसे अधर लगाती ।
हलक उतारी प्यास बुझाती  ।।
मिलन सार की अमर कहानी ।
क्या सखि साजन ?
ना सखि पानी ।।
4.रोम रोम वो रमते कैसे ।
कमल पत्र पर जल हो जैसे ।
मिठाई नही बिन मीठापन ।
क्या सखि साजन ?
ना सखि भगवन ।।
5.जिसके बल पर वह तने खड़े ।
उसके बिन वह डंड सम पड़े ।।
उनके रहते वह तो सजीव ।
क्या सखि साजन ?
ना सखि न जीव ।।
.............................................
-रमेशकुमार सिंह चैहान
एक टिप्पणी भेजें